दालचीनी के फायदे ,dalchini ke fayde

Table of Contents

दालचीनी क्या है? (What is Cinnamon Hindi?)

दालचीनी (dalchini ) आपके खाने को सुगंधित बनाता है। एक अलग स्वाद देता है। दालचीनी भारत में हजारों वर्षा से मसालों के रूप में प्रयोग होते हैं दालचीनी को एक औषधीय पौधा भी माना जाता है| 

ज्यादातर लोग दालचीनी को बस मसालों के रूप में प्रयोग करते हैं लोग इसके बहुतसे गुण से अवगत नहीं है। आज हम आपको इसके गुणों के बारे में बताते है | 

दालचीनी के फायदे ,dalchini ke fayde
dalchini ke fayde

 

dalchini ke fayde,दालचीनी के फायदे के बारे में भी जानेंगे | दालचीनी का प्रयोग मसालो और दवाईयों के रूप में किया जाता है। दालचीनी के कुछ घरेलू नुस्खे है जिससे आपको बहुत सारी बिमारियों में लाभ प्रदान करता है ।

दालचीनी का पौधा एक (सदाबहार) हमेशा हरा भरा रहने वाला पौधा होता है । इसकी लम्बाई छोटी झाड़ी के समान होता है। यह एक सुगंधित पौधा है |  dalchini  एक बहुत विशेष प्रकार की गंध आती है | तभी इसको गरम मसालों की श्रेणी में शामिल करते है।

इसमें एंटी ऑक्सीडेंट और इंटी बायोटिक गुण भी पाए जाते हैं। इसका पता तेजपता के रूप में छोंक लगाने के लिए प्रयोग  किया जाता है। दालचीनी का आकार गोलाकर जड़ मुलायम इसकी छाल  भुरे रंग की होती है। दालचीनी के पौधे का छाल का ही प्रयोग किया जाता है  

दालचीनी के नाम (Name of Dalchini)

दालचीनी के नाम कई सारे है। हर जगह इसको अलग-अलग नाम से जाना जाता है। लेकिन इसके गुण सब समान है। दालचीनी को शास्त्रीय नाम सिनमोमम, आदि नामों से जानते हैं संस्कृत में इसका नाम त्वक है। अंग्रेजी में दाल चीनी को cinnamon के नाम से जाना जाता है। भारत में ही इसे कई नामों से जाना जाता है।

अरब लोग इस दारसीनी के नाम से जानते हैं। जितने इसके नाम से उससे कई ज्यादा इसके सेवन से लाभ मिलता है। दालचीनी के सेवन से कई बिमारियों का खतरा कम हो जाता है।

dalchini ke fayde
dalchini ke fayde

 

दालचीनी का पेड़ – true cinnamon tree 

दालचीनी एक औषधीय पौधा माना जाता है। जिसका प्रयोग मसाल और दवाईयों में किया जाता है। दालचीनी का पौधा सदाबहार हमेशा हरा भरा रहने वाला पौधा है।

जो 10-15 मींटर ऊंचा होता है। यह लोरेसीड परिवार का है। इसका पौधा बहुत सुगंधित होता है। श्रीलंक चीन के साथ  भारत के दक्षिण पश्चिम westen ghat  में मिलता है |

केरल , कर्नाटक, तमिलनाडू में और उत्तर में हिमालय के तराई क्षेत्र में मिजोरम के ख़ासी में मिलता है। इसकी छाल से मसाला बनाया जाता है | इसके पत्तो को तेज़ पता के रूप में छोंक लगाने में इस्तमाल होता है ।

दालचीनी का पेड़ कैसे होता है

दालचीनी का पेड़ एक बडी झाडी की तरह होता है। इसका आकार  गोलाकार होता है। जुड़ मुलायम इसकी छाल भूरे रंग की थोडी कठोर होती है।

इसकी छालो में एक विशेष प्रकार की गंध होती है। जो खाने के स्वाद को बढ़ाती है। इसका पेड़ बड़ी झाड़ी  के जैसे देखने पर लगता है। ये हमेशा हरा रहता है।

dalchini ke fayde
dalchini ke fayde

 

दालचीनी का पौधा कैसे लगाए

भारतीय मासाला अनुसंधान संस्थान, कालीकट नें अच्छी पैदावार और गुक्ता वाले दो प्रकार की किस्म खोजी है जिसे आप कही भी लगा सकते हैं |

जहाँ जलवायु प्रतिकुल है वहाँ भी कुछ विशेष देखभाल के साथ दालचीनी का पौधा लगा सकते  है। इसकी खेती के लिए मिट्टी की उपयोगता जरूरी है।

इसके लिए वर्षा भी बहुत जरूरी है। इसको  वर्षा आधारित फसल मानते हैं। 200-250 cm  की वार्षिक वर्षा  इसकी खेती के लिए सबसे अच्छी मानी जाती है| 

दालचीनी का पाउडर – cinnamon powder in hindi

दालचीनी का उपयोग करने के कई तरीके है आप चाहे तो दाल चीनी का पाउडर भी तैयार इस सकते हैं और जरूरत पड़ने पर इसका उपयोग आसानी से कर सकते हैं| 

दालचीनी के छाल को सूखा के पीस कर या कूटकर बनाया जाता है | आप चाहे तो इसमें लोंग , सौंठ, जीरा भी मिला सकते है|  बाजार में इसका पाउडर आसानी से मिल जाता है | 

daalchini price – दालचीनी की कीमत 

 अगर आप बाजार से पाउडर लेते हैं तो आपको  एक  किलो दालचीनी के पाउडर की किमत लगभग 700-1000  तक मिल सकता है। गुणवता  के आधार पर कम या ज्यादा भी हो सकता है| 

दालचीनी का पानी कैसे बनाए

दालचीनी का पानी दो प्रकार से बनाया जा सकता है।

उबाल कर : आप दालचीनी को गर्म पानी में उबालकर फिर पानी को छान कर | इसमें नींबू मिलाकर पी सकते हैं इससे कब्ज की समस्या खत्म  होती है।

दूसरा प्रकार भिगोकर :

दालचीनी को पानी में भिगोकर कुछ समग के लिए छोड़ दें फिए उसका पानी धान कर अलग कर लो। अब इस पानी का सेवन आप शहद या दूध किसी और चीज में  मिलाकर कर सकते हैं।

दालचीनी का प्रयोग कैसे करे :-

dalchini ke fayde
dalchini ke fayde

 

दालचीनी का प्रयोग करने के कई तरिके है । जब हम इसका प्रयोग केवल मसाले के रूप में करते हैं तो इससे बस स्वाद मिलता है 1 शरीर को इसका कोई ज्यादा फायदा नहीं होता । इसलिए दालचीनी का प्रयोग ओर भी तरिका से होता है |  जिससे शरीर को ज्यादा लाभ मिल सके | 

दालचीनी पाउडर के लाभcinnamon powder benefits in hindi 

दालचीनी का फायदा सबसे ज्यादा पाउडर  के रूप में लेने से होता है। आप दालचीनी का चूर्ण बनाकर उसका इस्तेमाल लम्बे समय तक कर सकते है | 

इसका चूर्ण बनाकर आप रख  सकते है | जरूरत के हिसाब से इस गर्म पानी या दूध में मिलकर सेवन कर सकते हैं। 

दालचीनी उबाल कर : दालचीनी के कुछ टुकड़ों को लेकर आप इसे गर्म पानी में उबाल कर पी सकते हैं। इससे आपको दालचीनी का ज्यादा फायद मिलता है। गर्म पानी में दालचीनी के साथ शहद, लौंग, सोठ, नींबू का भी प्रयोग कर सकते हैं। सर्दी जुखाम में राहत मिलती है | 

दालचीनी भिगोकर : दालचीनी को आप कुछ समय के लिए भिगोकर पानी में रख सकते है फिर छान  कर पानी का सेवन करने से कई लाभ होते है  है। कई बिमारियों से आप बच सकते हैं ।

दालचीनी चाय कॉफी में डालकर : अगर आप दालचीनी का प्रयोग चूर्ण, उबाल कर, या भिगोकर लेने में असहज  है। इसकी गंध ज्यादा आती है तो इसका प्रयोग आप चाय, कॉफी में डालकर कर सकते हैं। सर्दी (सुखाम,  सरदर्द में लाभकारी है।

दालचीनी खाने के स्वाद बढ़ाने के लिए : दालचीनी का प्रयोग मसालों के रूप में प्रयोग करना सब  जानते है | इसका प्रयोग कई मिठे, नमकिन, केक के संवाद की बढ़ाने के लिए भी किया जाता है।

सीरियल्स बैंकिंग में भी दाल चीनी का प्रयोग होता है। इसके पत्तों का छौक लगाने से खाने का स्वाव बढ़ता है। आप अपने खाने को  सुगांधित और स्वादिष्ट बनाने की लिए प्रयोग कर सकते हैं।

दालचीनी के फायदे – dalchini ke fayde –

cinnamon benefits in hindi 

अब इसके गुण और प्रयोग करने के तारिक के बाद जानते है इसका सेवन करने से शरीर को क्या लाभ मिलता है ? दालचीनी अपके खाने के स्वाद को बढ़ाता है। और शरीर के बिमारियों को कम करता है।

कब्ज की समस्या हो या पाचन विकार हो सबको खत्म करता है। जुखाम, सिर दर्द ,दाँत  दर्द चर्म रोग में बहुत लाभ फायदेमंद होता है। मासिक धर्म से जुड़ी परेशानियों को भी खत्म करता है

  1. दालचीनी का तेल : आप दालचीनी का तेल भी इस्तेमाल कर सकते हैं बाजार में आपको इसका तेल आसानी से मिल जाएगा|  जिसका प्रयोग मिठाई बनाने या पेय प्रदार्थों में कर सकते है | इसके तेल से भी आपको बहुत लाभ मिलता है | 
  2. दालचीनी शुगर में लाभकारी : शुगर वाले मरीजों के लिए दालचीनी काफी लाभदायक है। इसके इस्तेमाल से शुगर  को सामान्य कर सकते हैं। दालचीनी को उबाल कर या भिगोकर उसका पानी पीने से शुगर में काफी राहत मिलता है। यह इंसुलिन को नियंत्रित करता है जिससे शुगर कम होता है| 
  3. दालचीनी वजन को कम करता है : दालचीनी के सेवन से पेट की चर्बी कम होती है। साथ ही ये शरीर का वजन भी कम करता है। सुबह गर्म पानी में उबाल कर नींबू के रस के साथ सेवन करने से वजन सामान्य रहता है ।
  4. स्त्रीरोग में लाभकारी : महिलाओं के शरीर की बनावट पुरुष से भिन्न होती है। महिलाओं की समया भी अलग होती है। मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द में दालचीनी का पानी फायदेमंद होता है | 
  5.  दांत के दर्द  में फायदेमंद : दाँत का दर्द भी एक असहनीय पीड़ा होती है। ऐसे में दालचीनी का तेल आपको इससे राहत दिलता है | दालचीनी का तेल दांत पर लगाने से दाँत का दर्द कम होता है। दालचीनी के पत्तों को पीसकर मंजन करने से दाँत साफ रहता है।
  6. मुहसो को कम करता है  : दालचीनी आपके चहरे के लिए भी काफी फायदेमंद होता है। इसका प्रयोग फेस पैक में भी कर सकते  है इसके चूर्ण में  नींबू का रस मिलाकर लगाने से चेहरे पर से मुहासे कम होता है।
  7. सर्दी जुखाम में : अगर आप सर्दी जुखाम से परेशान हैं तो आप दालचीनी को इस्तमाल कर सकते हैं। दालचीनी के चूर्ण के साथ काली मिर्च पाउडर मिलाकर लेने से सर्दी जुखाम ठीक होता है।
  8. पीसीओएम (पालीसिस्टिक आवरी सिंड्रोम ): यह महिलाओं में होने वाली एक विशेष प्रकार का रोग है। यह महिलाओं में हार्मोन  के चेंज के कारण होता है इस रोग में महिला के सिस्टु का छोटा तथा आवरी का साइज बड़ा हो जाता है। दालचीनी के पानी में शहद मिलकर लेने से इस सिंड्रोम से छुटकारा पा सकते है | 
  9.  कब्ज से राहत : दालचीनी के पाउडर को उबालक पीने से कब्ज से छुटकारा मिलता है और पाचन तंत्र भी मजबूत होता है। पाचन विकार को दूर करता है। तेज पत्ता का चूर्ण बनाकर या काढा बनाकर पीने से गैस कब्ज की समस्या खत्म जाती है | 
  10. प्रसव के बाद : प्रसव के बाद दालचीनी के प्रयोग से गर्भ धारण टाला जा सकता है। दालचीनी के सेवन से स्तन का दूध भी बढ़ता है। महिला दालचीनी प्रयोग गर्भावस्था के समय बहुत कम तथा ना करें । प्रसव के बाद जसका इस्तेमाल किया जा सकता है। यह गर्भस्य विकारों को दूर करता है ।
  11. T.B और दस्त में भी दालचीनी लाभकारी माना जाता है।
  12. मिठाई बनाने में दालचीनी के  तेल का प्रयोग होता है इससे मिठाई का संवाद बढ़ता है
  13. साइनस रोग में लाभकारी : दालचीनी नाक के रोगो  के लिए भी लाभकारी है। दालचीनी मे लोंग सोठ उबालकर पीने से नाक के रोग दूर होता है।
  14.  सिर दर्द में : दाल चीनी से एक एंटीबायोटिक गुण पाए जाते जो सर्दी जुखाम सिर दर्द में फायदेमंद होता है। इसको उबालक पीने से भी सिर दर्द में राहत मिलता है | इसका लेप लगाने से भी काफी राहत मिलता है | 

दालचीनी के नुकसान :

dalchini ke fayde
dalchini ke fayde

 

  1.  गर्भावस्था के दौराना इसका प्रयोग नहीं करना चाहिए |  इससे गर्भस्य को खतरा हो सकता है।
  2. दालचीनी एक गर्म मसाला है इसमें ऊष्मा रहती है, इसलिए गर्मियों में इसका प्रयोग ज्यादा ना करें।
  3.  दालचीनी के ज्यादा प्रयोग से लिवर को खतरा रहता है।
  4.  सुखी दालचीनी खाने से गले से जुड़ी समस्या जैसे गले में थाले, जलन सुजन भी हो सकता है।
  5. ज्यादा मात्रा में सेवन करने से कैंसर का खतरा भी हो सकता है
  6. दालचीनी नियमित रूप से  लेने से ब्लड प्रेशर को बहुत कम कर सकता है। जो व्यक्ति के लिए हानिकारक होता है।
  7. इसके काढ़ा का भी प्रयोग ज्यादा मात्रा में ना करे नही तो सांस से जुड़े रोग हो सकता है।
  8.  अस्थमा वाले या जिनको सांस से जुडी कोई समस्या रहती है उन व्यक्तियों को दालचीनी उपयोग करते समय सावधानी बरतनी चाहिए | ज्यादा मात्रा में इसका सेवन नहीं करना चाहिए | 
  9. विशेषज्ञ की मानें तो लगभग 60किलो  वजन वाले एक व्यक्ति को पूरे दिन 5 मिलीग्राम दोलचीनी काफी  हैं। ज्यादा मात्रा में इसका सेवन करते है तो आप के लि नुकसानदायक भी हो सकता है | 
  10. सुखी दालचीनी का उपयोग कभी न करे यह फेफड़ो के लिए हानिकारक होता है| ऐसा इसमें पाए जाने वाले फाइबर के कारण होता है जिससे फेफडा तोड नहीं पाता है। सुखी दालचीनी खाने से गले फेफड़ों में सूजन भी हो सकता है।

किसी भी चीज का फायद आपको तब तक मिलता है जब तक आप उसे सीमित मात्रा में लेते हैं। ज्यादा प्रयोग करने से नुकसान ही होता है। जाहे वह भोजन हो दवाई हो या कुछ ओर ऐसे ही दालचीनी का सेवन भी अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए | 

dal chini ke fayde in hindi – cinnamon benefits in  hindi 

दालचीनी वाला दूध पीने के फायदे

दालचीनी को वडर स्पाइस भी कहा जाता है। क्योंकि इसके इस्तेमाल से खाना भी स्वादिष्ट बनाता है और शरीर के लिए भी लाभकारी है |

दालचीनी औषधीए गुणों से भरा पूरा है। दालचीनी को पानी में भिगोकर उसका पानी पेय तो भी कायदेमंद है |  लेकिन दूध के साथ इसका फायदा और ज्यादा मिलता है।

कई बिमारियों से आपको बचाता है। दालचीनी दूध के साथ लेने से पाचन क्रिया को ठीक करता है। अगर आपका पाचन तंत्र ठीक नहीं हो तो दूध के साथ दालचीनी आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित होगा ।

इससे गैस, कब्ज,आदि की समस्या खत्म होती है। गर्म दूध में दालचीनी मिलाकर एटीऑक्सीडेंट की अच्छी  मात्रा मिलती है, जो आपको अर्दी जुखाम से राहत दिला सकती है | 

गर्म पानी में दालचीनी पीने के फायदे 

दालचीनी को मसाले के रूप में प्रयोग करने से ज्यादा फायदा नहीं मिलता बस संवाद बढ़ता है। सबसे ज्यादा फायदा इसका पानी पीने से होता है।

  1. पाचन क्रिया अच्छी होती है।
  2. नींद अच्छी आती है।
  3. ब्लड शुगर सामान्य रहता है |
  4.  हड्डियाँ मजबूत बनती है।
  5. सर्दी जुखाम से राहत मिलता है
  6. वजन कम होता है।
  7. बालों के लिए भी अच्छा रहता है | 

दालचीनी के पाउडर के फायदे – cinnamon powder benefits in hindi 

दालचीनी का पाउडर बहुत फायदेमंद होता है। इसके सेवन से कई बिमारियों से छुटकारा मिलता है इसका उपयोग पानी में उबालकर कर सकते है  |

उसका पाउडर दूध में डाला कर पीने से पाचन क्रिया अच्छी होती है। दालचीनी का पाउडर फेस पैक में मिलाकर भी कर सकते उससे चेहरे के किल मुहासे काम होता है ।

कब्ज में भी राहत मिलता है | इसका उपयोग ब्रेकफास्ट के बाद करते हैं तो कलोस्टोल सामान्य रहता है।

शुगर में दालचीनी के फायदे 

शुगर कंट्रोल करने के लिए दालचीनी एक फायदमंद औषधी है। उसके पाउडर को गर्म पानी में उबाल कर सेवन करने से इंसुलिन नियंत्रित रहता है जिससे शुगर सामान्य रहता है| शुगर के मरीजों को इसका सेवन करना चाहिए |

दालचीनी की चाय के फायदे 

दालचीनी को चाय डालकर पीने से कई फायदे होते हैं। सर्दी जुखाम में बहुत असरदार है | चाय बनाते समय चाय में दालचीनी का पाउडर या सुखे दालचीनी का भी प्रयोग कर सकते हैं इससे सिर दर्द में काफी राहत मिलती है। 

 Dalachini in English

दालचीनी को कई नाम से जाना जाता है। अंग्रेजी में इसे cinnamon or  Ture cinnamon कहते है ।

प्रेगनेंसी में दालचीनी के फायदे 

गर्भावस्था के समय बहुत कम मात्रा में दालचीनी का सेवन करना चाहिए | ज्यादा उपयोग करने से नुकसान भी हो सकता है। डॉक्टर की सलाह से इसका इस्तमाल करे | 

दालचीनी के तेल के फायदे 

दालचीनी का तेल आपको बाजार में आसानी से मिल जाएगा । इसके तेल के बहुत फायदे होते हैं। ( मच्छर भगाने के लिए इसका उपयोग किया जाता है। दाँत दर्द में भी इसका तेल बहुत फायदेमंद होता है | 

इसका तेल दांत पर लगाने से दर्द से राहत मिलता है। मिठाई में और पेय पदार्थों में इसका प्रयोग शुगंध के लिए किया जाता है| इतर ( Parfums )  बनाने में भी इसके तेल का उपयोग होता है। 

READ MORE :-

धनुरासन : dhanurasana benefits(bow pose)

kapalbhati benefits in hindi

Leave a Comment

five × 3 =